Ads Area

तेरे हुस्न को नकाब की - Husn, Nakab, Hosh Tareef Shayari


तेरे हुस्न को नकाब की
जरुरत ही क्या है
न जाने कौन रहता होगा होश में
तुझे देखने के बाद


 

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Below Post Ad

Shayar Indian पर आपका स्वागत, बेहतरीन Love, Sad, 2 Lines, Suvichar, Anmol Vachan आदि के लिए जुड़े रहे हमारे साथ | For Latest News Updates on Travel, Succes, Art, Nature Environment, Festival, History etc Visit EBNW Story