Ads Area

जीते थे कभी हम भी शान से - Shan, Mehak, Fiza, Mukam, Nafrat, Muhabbat Par Shayari


जीते थे कभी हम भी शान से
महक उठी थी फिजा किसी से नाम से
गुजरे हैं हम कुछ ऐसे मुकाम से
के नफरत हो गई है मुहब्बत के नाम से

Jite Thee Kabhi Ham Bhi Shan Se
Mehak Uthi Thi Fija Kisi Ke Naam Se
Gujre He Ham Kuch Ese Mukam Se
Ke Nafrat Ho Gyi He Muhabbat Ke Naam Se


 

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area