Ads Area

इजहार-ए-इश्क़ की खातिर कई अल्फ़ाज़ सोचे थे - Propose Shayari


इजहार-ए-इश्क़ की खातिर
कई अल्फ़ाज़ सोचे थे
ख़ुद ही को भूल बैठे हम
जब तुम सामने आये

Izhaar E Ishq Ke Khatir
Kai Alfaj Soche The
Khud Hi Bhul Bethe Ham
Jam Tum Samne Aaye


 

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area