Ads Area

जागना भी कूबल है तेरी यादों में रातभर


जागना भी कूबल है
तेरी यादों में रातभर
तेरे एहसासों में जो सुकून है
वो नींद में कहां


 

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area