Ads Area

मस्त नज़रों से - Mast Najro Se, Tamanna, Aajmana, Behosh Muskurana


मस्त नज़रों से देख लेना था
अगर तमन्ना थी आज़माने की,
हम तो बेहोश यूँ ही हो जाते
क्या ज़रूरत थी मुस्कुराने की?


 

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area