Subscribe Us

थोड़ी गुंजाइशें भी : Shayari for Dhokebaaz : Gunjaish, Gardish

थोड़ी गुंजाइशें भी : Shayari for Dhokebaaz : Gunjaish, Gardish  
थोड़ी गुंजाइशें भी
रखनी पड़ती है जनाब
गर्दिशों में लौट आते हैं
कई बार जाने वाले