Subscribe Us

और कितना परखोगे : Hindi Shayari on Prakhna


और कितना परखोगे मुझे
क्या इतना काफी नहीं है
कि मैंने तुम्हें चुना है