Subscribe Us

मेरी फितरत में नहीं - Fitrat Shayari : Dosti, Parindey, Shauk

मेरी फितरत में नहीं
उन परिंदो से दोस्ती रखना,
जिन्हें हर किसी के साथ
उड़ने का शौक हो ।

मेरी फितरत में नहीं - Fitrat Shayari : Dosti, Parindey, Shauk