Subscribe Us

Love Hindi Shayari : Narazgi, Jatana, Khafa, Kajal

Love Hindi Shayari : Narazgi, Jatana, Khafa, Kajal
नाराजगी मुझसे कुछ 
ऐसे भी जताती है वो,
खफ़ा जिस रोज हो जाती है
काजल नहीं लगाती है वो ।